जब जीनियस डायरेक्टर शेखर कपूर ने मिस्टर इंडिया में एक कॉक्रोच से एक्टिंग करवा ली

मिस्टर इंडिया मूवी में कॉक्रोच ने एक्टिंग में दी अनिल कपूर और श्री देवी को टक्कर

Interesting Facts about hit bollywood movie Mr. India

Interesting Facts about Anil Kapoor, Sridevi and Shekhar kapoor

mr. india

जब जीनियस डायरेक्टर शेखर कपूर ने मिस्टर इंडिया में एक कॉक्रोच से एक्टिंग करवा ली एक मझा हुया डायरेक्टर किसी से भी एक्टींग करवा सकता है उससे भी जिसने कभी एक्टींग नहीं की हो । पर क्या हो जब एक डाॅयरेक्टर काॅकरोच से भी एक्टींग करवा ले।
कौन था ये जिनियस डाॅयरेक्टर ? कहां से आया था वो प्रतिभावान काॅकरोच जिसे सिल्वर सक्रीन पर आने का मौका मिला।
जी हां दोस्तो वो डाॅयरेक्टर थे शेखर कपूर और फिल्म थी मिस्टर इंडिया। मिस्टर इंडिया में श्रीदेवी एक पत्रकार है । फिल्म की शरूआत में श्रीदेवी को बच्चे बिल्कुल पसंद नहीं थे पर बाद में श्रीदेवी की दोस्ती सभी बच्चो से हो जाती है। फिल्म के इस सीन में वो अनिल कपूर के घर किरायेदार बनकर आती हैं।

anil kapoor movies

अनिल कपूर को पैसो की सख्त जरूरत थी। अनिल ने श्रीदेवी को ये गलत बता दिया था कि उनके घर में बच्चे नहीं पर इसके उल्ट घर में बच्चो की पुरी फौज थी । अब घर में आने के बाद अनिल कपूर को श्रीदेवी के सामने ये सच लाना है कि उनके घर में बच्चे ही बच्चे है।
ऐसे में फिल्म में पहली बार इन्ट्री लेते है काॅकरोच जी महाराज । अनिल और श्रीदेवी काॅकरोच से डरते है । ऐसे में अनिल कपूर श्री देवी से कहते है इनको सिर्फ बच्चे ही भगा सकतें है। फिर बच्चे आतें है और काॅकरोच को पकड़ कर कमरे से बाहर फेंकते हैं।

sridevi movies

इस सीन को दमदार बनाने के लिए शेखर कपूर चाहते थे कि काॅकरोच के क्लोजअप लीये जाये। यानी काॅकरोच पूर परदे पर दिखाई दे। जब अनिल कपूर ये कहें की काॅकरोच उन्हे देख रहा है तो ये लगना चाहिए की काॅकरोच सच में उन्हें घूर रहा है। लेकिन कैमरा लाईट सैट होते होते काॅकरोच भाग जाता था।
सीन के कई रिटेक हो चुके थे, काफी समय खराब हो चुका था, पर सीन ओके नहीं हो रहा था। बच्चो से ज्यादा फिल्म की युनिट काॅकरोच की पीछे भाग रहीं थी। ऐसे में डाॅयरेक्टर शेखर कपूर के दिमाग में एक आईडिया आया। उन्होने अपनी पंसदीदा वाईन मंगवाई वाईन यारी शराब। युनिट के लौग हैरानी में ये सोचने लगे कि परेशान होकर शेखर कपूर वाईन पीना चाहते है, पर शेखर कपूर ने ये वाईन काॅकरोच के लिए मंगवाई थी।

shekhar kapoor movies
cockroach video

शेखर कपूर ने वाईन काॅकरोच के चारों तरफ गिरा दी और इंतजार करने लगे। काॅकरोच बार बार इधर उधर जाता और भाग भाग कर वाईन में गिरता और वापिस आ जाता। दो चार बूंद जब काॅकरोच के अंदर गई तो काॅकरोच पूरी तरह नशे में डूब गये और शांती से एक जगह बैठ गये।
कैमरा मैन बाबा आजमी ने मौके पर चैका लगाया और काॅकरोच के सामने कैमरा लगाया लाईट आॅन की और लग गये काॅकरोच के क्लोजअप शूट करने। फिर शेखर कपूर का आईडिया कामयाब हुआ अब काॅकरोच ने सारे शाॅट शांती से दिये, और ये सीन वैसा ही शूट हुआ जैसा शेखर कपूर चाहते थे। अब आप जब मिस्टर इंडिया का ये सीन देंखे तो काॅकरोच की ये मद भरी अदाकारी को जरूर नोट करें।

fact about mr. india

काॅमेंट करके बतायें आपको ये किस्सा कैसा लगा।
अपने पसंदीदा बाॅलीवुड के रोचक किस्से जानने के लिए काॅमेंट करें।

Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/पंडित-रोहित-शर्मा-से-जाने-3/
Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/अचार-व-मुरब्बा-बनाने-व-रख-र/
Visit this website for new English fonts – http://www.dafont.com
Visit this website for Indian graphics – http://www.newhindifont.in

सत्य मूवी का ये सीन करते समय मनोज बाजपाई का डर के मारे हुआ बुरा हाल

मुंबई के किंग भीकू म्हात्रे को किस चीज से लगता है डर

Unknown and interesting facts from the film Satya

manoj bajpayee in satya movie

सत्य मूवी का ये सीन करते समय मनोज बाजपाई का डर के मारे हुआ बुरा हाल

मुंबई का किंग कौन – भीकू म्हात्रे
एक्टिंग का किंग कौन -मनोज बाजपेयी
जी हां ये किस्सा है दिग्गज बाॅलिवुड कलाकार मनोज बाजपेयी का । आज के बड़े बड़े कलाकार उनका सामना करने से डरते है, क्योंकी अगर सीन में मनोज है तो फिर उस सीन में और कोई नजर नहीं आता बड़े से बड़े कलाकार को अपनी अदाकारी से पीछे छोड़ देते है।
उनको बाॅलिवुड में पहचान मिली फिल्म सत्या से जिसमें उन्होंने दबंग विलेन भीकू म्हात्रे का रोल किया था। अपनी अदाकारी से भीकू को अमर कर दिया, हलांकि ये एक बहुत ही खुंखार विलेन का रोल था । फिल्म के हर सीन को बड़ी आसानी से कर लिया पर एक सीन करते हुये मनोज बाजपेयी के पसीने छूट गये, डर के मारे उनका बुरा हाल हो गया। बहुत सारे रिटेक के बाद भी ये सीन ओके नहीं हुआ ।

manoj bajpai

कौन सा सीन था ये, आखिर कैसे ओ के हुया ये सीन, और क्यो इतना डर गये मनोज बाजपेयी, जानते है – मुंबई का किंग कौन – भीकू म्हात्रे
जी हां मैं इसी सीन की बात कर रहा था, ये डाॅयलोग सुनकर क्या तस्वीर दिमाब में उबरती हैं कि भीकू म्हात्रे समुन्द्र के किनारे एक पहाड़ पर खड़ा है, सारा शहर उसके सामने है, और वो अपनी बाहें फैला के बड़े दबंग अदांज में चिल्लाता है कि वो है मुंबई का किंग यानी वो मुंबई का राजा है हर कोई उससे डरता है।

लेकिन हकीकत ये है इस सीन में डर के मारे मनोज की हालत पतली हो रही थी। असल में ये डाॅयलोग मनोज को समुन्द्र के किनारे एक पहाड़ पर बिल्कुल किनारे पर आकर ये डाॅयलोग बोलना था। पहाड़ की उंचाई बहुत ज्यादा थी । लेकिन ये किसी को नहीं पता था की मनोज बाजपेयी को उंचाई से डर लगता था, उन्हें वर्टिगो था।

ram gopal varma satya

जब कैमरा रोल हुआ और डाॅयलोग बोलने का वक्त आया तो मनोज डर के मारे किनारे तक जा ही नहीं पाये उनके पांव कांप रहें थे। डायरेक्टर राम गोपाल वर्मा को समझ में नहीं आ रहा था कि अब करें तो क्या करें ये सीन तो शुरू ही नहीं हो रहा तो खत्म कैसे होगा। राम गोपाल वर्मा ने मनोज का डर दूर करने के लिए उनकें पांव में रस्सी बांध दी और युनिट ने उस रस्सी को पकड़ लिया तांकि उन्हे गिरने का डर ना लगे।

इतना सबकुछ करने के बाद भी मनोज बाजपेयी का डर नहीं गया कभी वो पीछे देखते, कभी पैरों की तरफ, कभी नीचे समुन्द्र को देखकर उनकी आंखे बंद हो जाती । ऐसे में हर बार वा डर के मारे डाॅयलोग भूल जातें । सीन की इतने रिटेक हो चुके थे राम गोपाल वर्मा परेशान हो चुके थे, ऐसे में उन्हे एक आईडिया आया ।

anurag kashyap satya

रामगोपाल वर्मा ने मनोज बाजपेयी से कहा की इस सीन में तुम डाॅयलोग भूल रहे हो, ऐसा करो जो तुम्हारे मन में आये डाॅयलोग बोल दो सही डाॅयलोग बोलने की जरूरत नहीं है।
हम बाद में इस सीन के डाॅयलोग को डबिंग से सही कर देंगे पर अदाकरी किंग आॅफ मुंबई वाली हो और पैर कांपने नहीं चाहिए, ताकी सीन कमजोर ना लगे। ये आॅयडिया मनोज बाजपेयी को अच्छा लगा और उनमें सीन पूरा करने का हौंसला जागा।

कैमरा रोल हुआ सीन शुरू हुआ और बिल्कुल मुंबई के किंग के अंदाज में अदाकारी करते हुये सीन में एक्ट करना शुरू किया पर आप जानकर हैरान होंगी कि डाॅयलोग क्या बोले गये । मनोज ने बोला मुझे यहंा से नीचे उतारो, निकालो मुझे यहा से नहीं तो मैं यहा से गिर के मर जाउंगा पर चेहरे पर डर के भाव नहीं एक दबंग विलेन के भाव थे।

इस तरह से सीन पुरा हुआ, बाद में डबिंग में सही डाॅयलोग बोलकर ये सीन सही तरीके से एडिट किया। क्या सीन बन कर निकला सीन देखकर ऐसा ही लगता है कि मुंबई का किंग भीकू म्हात्रे ही है। ये सीन मनोज बाजपेयी की पहचान बन गया।

manoj bajpai movies

कैसा लगा आपको ये किस्सा काॅमेंट करके बतायें। बाॅलिवुड के और किस्से जानने के लिए भी काॅमेंट करें।

Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/पंडित-रोहित-शर्मा-से-जाने-3/
Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/अचार-व-मुरब्बा-बनाने-व-रख-र/
Visit this website for new English fonts – http://www.dafont.com
Visit this website for Indian graphics – http://www.newhindifont.in

कैसे मिली बिल्कुल फ्लॉप हो चुके आर. डी बर्मन को 1942 ए लव स्टोरी

RD Burman in 1942 a love story

आखिर क्यों आर डी बर्मन 1942 ए लव स्टोरी की कामयाबी का जशन नहीं बना सकें

R D Burman Biography, Life Story, Career

RD Burman in 1942 a love story

कैसे मिली बिल्कुल फलाॅप हो चुके आर. डी बर्मन को 1942 ए लव स्टोरी

एक समय के सुपरहिट म्यूजिक डायरेक्टर आर. डी बर्मन जो बाॅलिवुड को एक से एक सुपरहिट हिट गाने दे चुके थे, उनके पास कोई काम नहीं था। उनका बेहद मुश्किल दौर चल रहा था, जी हां ऐसा मुश्किल वक्त हर उच्च कोटी के कलाकार की जिंदगी में आता है, एक समय तो उनके पास काम ही काम होता है और एक समय वो इतने अकेले हो जाते है की उनके पास कोई नहीं आता काम देने के लिए या मिलने के लिए ।
कैसे डायरेक्टर विधु विनोद चोपड़ा ने आर.डी. बर्मन को चुना अपनी आने वाली फिल्म 1942 ए लव स्टोरी का म्युजिक डायरेक्टर जाने एक रोचक किस्सा। विनोद को यकीन था कि जिस मधुर संगीत की उन्हे तलाश है वो सिर्फ आर.डी.बर्मन ही दे सकते हैं।

1942 a love story
1942 a love story songs


फिल्म का पहले गाने पार काम शुरू हुआ गाना था कुछ ना कहो कुछ भी ना कहों, लेकिन जब पहली बार इस गाने की धुन बर्मन दा ने चोपड़ा साहब को सुनाई तो वो चैंक गये, क्योंकि ये धुन विधु विनोद चोपड़ा को बिल्कुल पसंद नहीं आई । विधु विनोद चोपड़ा जो बर्मन दा की बहुत इज्जत करते थे उन्होंने बिल्कुल सपष्ट शब्दों में कहा की ये म्युजिक या धुन मेरी फिल्म के काबिल नहीं है सच कहुं बुरा मत मानना ये बिल्कुल बकवास म्युजिक है, मुझे नहीं लगता था कि आप ऐसी धुन बनायेंगे।
ऐसे में वातावरण बहुत बोझिल हो गया पुरे कमरे में थोड़ी देर के लिए सन्नाटा छा गया एक एक कर सभी साथी म्युजिशियन कमरे से बाहर चले गये।

ek ladki ko dekha

आर.डी जहा बैठे थे उनके ठीक उपर एस.डी.बर्मन का फोटो लगा था। विनोद उस फोटो को देख कर बोले असल में मैं उनकी तालश में हूं, और आप उनके सबसे करीब है, और आप ही है जो उनके मुकाबले का म्युजिक दे सकते हैं।

ये सुनकर आर.डी. की आखों में आंसु आ गये, और बोले मुझे सात दिन का वक्त दे दो। चोपड़ा साहब ने उन्हें ये वक्त दिया और सात दिन के बाद दुबारा धुन सुनने का समय आया। आर.डी.बर्मन ने नयी धुन सुनाना शुरू किया और ऐसी धुन बनी कि सुनसर चैपड़ा साहब मंत्र मुग्ध हो गये उनकी आखें बन्द हो गई और हाथ तारीफ में अपने आप उठ गये।
इसके बाद हर गाने की धुन एक से बड़ कर एक थी। आज भी हम 1942 ए लव स्टोरी के गाने हजारो बार सुन सकतें हैं, ऐसा म्युजिक दिया बर्मन दा ने जो अमर हो गया ।


लेकिन वाह री किस्मत अपना काम तो बर्मन दा ने पुरा किया लाजवाब म्युजिक दिया पर इसकी कामयाबी का जशन नहीं बना सके। फिल्म के रिलीज हाने से पहले ही वो ये दुनिया छोड़ चुके थे पर जाते जाते उन्हांेने ये नयाब तोहफा हम सब के लिए छोड़ दिया था। एक महान कैरियर का अंत इस तरह से हुआ शायद ये कहानी विधाता ने खुद अपने हाथों से लिखी थी।
बाॅलिवुड के एसे किस्से जानने के लिए काॅमेंट करें।

rd burman songs

Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/पंडित-रोहित-शर्मा-से-जाने-3/
Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/अचार-व-मुरब्बा-बनाने-व-रख-र/
Visit this website for new English fonts – http://www.dafont.com
Visit this website for Indian graphics – http://www.newhindifont.in

मानव पाचन तंत्र के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

Know about Human Digestive System

पाचन तंत्र में भोजन कैसे पचता है ?

How does food digestion in the digestive system?

मानव पाचन तंत्र के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

मानव पाचन तंत्र

सबसे पहले जानते है मानव पाचन तंत्र के प्रमुख अंग आंत के बारे में –
आंत तंत्र पाचन तंत्र का सबसे महत्वपूर्ण अंग है। आप को जानकर हैरानी होगी की आंत का साईज 30 फिट तक हो सकता है। आंत हमारे मुंह से गुदा द्वार तक जाती है। आंत तंत्र हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत अनिवार्य एवं महत्वपूर्ण होता है। यह जीवन भर हमें स्वस्थ बनाये रखने के लिए काम करता हैं आंत ही हमारे शरीर का व द्वार है, जिसके द्वारा सभी पोषक तत्व, विटामिन, खनिज व तरल पदार्थ हमारे शरीर में प्रवेश करते है।

हमारा आंत तंत्र सभी खाद्य पदार्थो व को विखण्डित व अवशेषित करता है, जिनकी आवश्यकता हमें जीवित रखने के लिए हमारे शरीर को रहती है। शरीर के विभिन्न अंग पाचन प्रक्रिया में अपने सहयोग देते हैं इसके लिए हमारे दांत एवं जबड़े भोजन को चबाने का कार्य करते हैं इस प्रक्रिया के लीवर को पित्त उत्पन्न करने का प्रोत्साहन मिलता है इसलिए खाना ज्यादा के ज्यादा चबा कर खाना चाहिए इसके मुंह में बनने वाली लार भी भोजन को पचाने में मदद करती है।

लीवर द्वारा पित्त की उत्पत्ति हमारी पाचन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भेमिका निभती है। जब हमें भूख लगी होती हे उस अन्तराल में पित्त पित्ताशय में इक्ट्ठा हो जाता है इसके बाद यह छोटी आंत में चला जाता है।

Human Digestive System


आंत तन्त्र के कितने भाग होते है ?

  • मुंह,
  • ग्रासनली
  • आमश्य
  • छोटी आंत
  • बड़ी आंत
  • मलतन्त्र व गुदा


इसके अतिरिक्त शरीर के कुछ दूसरे अंग भी पाचन प्रक्रिया में सहायता करते है, मगर इन्हें पाचन तंत्र का भाग नहीं समझा जाता हैं, ये अंग जीभ, हमारे मुंह के अन्दर की ग्रन्थियां जो लार का उत्पादन करती हैं ।

आंत तन्त्र के महत्वपूर्ण कार्य

  1. खाद्य पदार्थो का भण्डारण करना
  2. पाचन तन्त्र के विभिन्न अंगो द्वारा उत्पन्न पाचन रसों को भोजन में मिश्रत करके उन्हें विखण्डित करने के बाद पाचन योग्य बनाना।
  3. मुंह के भीतर चबाने जाने के बाद इस मित्रत भोजन को ग्रासनली, आमाश्य, ग्रहणी, छोटी आंत, बड़ी आंत से होते हुए गुदा द्वार तक ले जाया जाता है।
  4. विशेषकर छोटी आंत एवं दुसरे अंगो से रक्त में पोषक तत्वों का अवशेषण करवाता है।
digestive system function

जाने पाचन क्रिया का क्या मतलब है ?


पाचन क्रिया उस प्रक्रिया को कहते हैं जिसमें हामरे शरीर का पाचन तन्त्र खाद्य पदार्थो को विखण्डित करके शरी द्वारा अवशोषित किये जाने लायक बना देता हे, जिसको हामारा शरीर आवश्यकतानुसार उर्जा की प्राप्ति, शरी के विकास एवं कसकी मरम्मत करने के लिए प्रयोग कर सकें। पाचन क्रिया की अवधि में एक ही समय में दो प्रमुख प्रक्रियायें होती है। ये इस प्रकार हैं –

यांत्रिक पाचन
पाचन क्रिया की इस अवस्था में भोजन के बड़े-बड़े टुकड़ो को छोटे-छोटे टुकड़ो में तोड़ा जाता है, इसके बाद रासायनिक या द्वितीय स्तर की पाचन प्रक्रिया में प्रयुक्त होते है। यह यांत्रिक पाचन मुख से आरम्भ होकर आमाश्य तक चलता है।

मुंह
मुंह में भोजन चबाया जाता है, जो बाद में निगल लिया जाता है। मुंह के अन्दर बनने वाले राल (सलाईवा) में पाचन रस होता है, जो स्टार्च को ग्लूकोज में बदल देता है।

ग्रास नली
ग्रास नली में भोजन प्रवेश करता है और यहां से आमाश्य में प्रवेश करता है।

आमाश्य
आमाश्य की मांसपेशियां गैस्ट्रिस तरल उत्पन्न करती है जिससे प्रोटीज नामक एंजाइम होता है जो प्रोटीन को तोड़ कर अमीनो एसिड उत्पन्न करता है।

छोटी आंत
छोटी आंत में एमाइलेज, प्रोटीन एवं लाईपेज नामक एंजाइम बनते है जो चर्बी यां वसा को विखिण्डत करता है । और इसके अतिरिक्त यहां पर वसा, प्रोटीन एव कार्बोहाइड्रेट को तोड़ कर पचाता है।

बड़ी आंत
जो भोजन पचने से रह जाता है, वह बड़ी आंत में चला जाता है। इस स्थान पर पानी से मिलकर यह बचा-खुचा पदार्थ मल में परिवर्तित हो जाता है।

मलतन्त्र
इस स्थान पर मल जमा हो जाता है जो गुदा द्वार से बाहर निकल जाता है।

Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/पंडित-रोहित-शर्मा-से-जाने-3/
Other most liked article – http://www.hindigraphics.in/अचार-व-मुरब्बा-बनाने-व-रख-र/
Visit this website for new English fonts – http://www.dafont.com
Visit this website for Indian graphics – http://www.newhindifont.in

पंडित रोहित शर्मा से जाने अनुराधा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

Anuradha Nakshatra Characteristics

Anuradha Nakshatra Secrets in Vedic Astrology

कैसे होते है अनुराधा नक्षत्र वाले लोग

पंडित रोहित शर्मा से जाने अनुराधा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल

Pandit Rohit Sharma
Call 09815214027, 09549022500
Street no. 2. Dhaliwal colony
green city road, opp blazing star marriage palace
Bathinda, Punjab – pin – 151001
EMAIL – luxmivastukendar@gmail.com

अचार व मुरब्बा बनाने व रख रखाव की अनोखी जानकारी

Achar and Murabba tips

आचार व् मुरब्बा बनाने की विधि

Achar and Murabba tips

अचार व मुरब्बा बनाने व रख रखाव की अनोखी जानकारी

  • आम का अचार तैयार करते समय यदि सरसों के कच्चे तेल को खूब अच्छी तरह गर्म करके, उसे ठण्डा करके डाला जाए तो अचार को धूप में नहीं रखना पड़ेगा और न ही फुफंदी लगेगी ।
  • आचार रखने से पहले सूखे मर्तबान में हींग की धूनी देने से अचार सुगन्धित बनता है तथा काफी दिनों तक खराब भी नहीं होगा
  • आम का अचार यदि खराब होने लगे तो उस पर थोड़े नमक की तह बिछा दीजिए ।
  • नींबू का अचार यदि खराब महक देने लगेण् तो उसमें थोड़ा सा सिरका डाल दें, अचार फिर से महकने लगेंगा।
  • नींबू का अचार यदि खराब होने लगे तो उसमें थोड़ा सा नींबू का रस डाल देने से ज्यादा स्वादिष्ट और सुगंधित बनता हैं
  • मुरब्बा बनाते समय फलों की चाशनी में एक चम्मच ग्लिसरीन मिला दें। इससे चीनी कम लगती है र मुरब्बा ज्यादा स्वादिष्ट ओर सुगंधित बनता है।
  • मुरब्बे के लिए सेब उबालते समय पानी में चुटकी भर नमक मिला दें। मुरब्बा ज्यादा स्वादिष्ट बनेगा एवं चीनी भी कम लगेगी और वह अधिक दिन तक खराब नहीं होगा।
  • यदि नींबू का अचार खराब हो रहा है तो उसमें चीनी डाल दीजिए। स्वाद भी नया ओ जाएगा और चार भी सुरक्षित रहेगा।
  • अचार रखने से पहले मर्तबान में हींग का पाउडर मल देने से अचार काफी दिनों तक खराब नहीं होता।
  • अचार खत्म होने पर उकसे तेल व मसाला बच जाता है। बचे हुए तेल व मसाले में हरी या लाल साबुत मिर्चे ओर अदरक काट कर डाल दें और दो चार दिन धूप में रख दें। स्वादिष्ट अचार तैयार हो जाएगा।
  • एक चम्मच अचार का मसाला बेसन के घोल में मिला लें तो पकौड़े कुरकरे हो जाऐंगे।
  • यदि अचार खराब हो गया हो तो फफूंदी वाला भाग हटाकर थोड़ी सी पिसी हुई चीनी छिड़क दें व दो-तीन दिन धूप में रखें। फिर हिलाकर दूसरी बरनी में भरकर रखें।
  • कच्चे आम लेकर उन्हें छीलकर बारीक टुकड़ो में काटकर नमक मिर्च व थोड़ी सी हींग डाल कर रख दें। जब भी चटनी पीसें एक चम्मच इसमें से डाल ले। ताजा खटाई से चटनी का स्वाद और भी बढ़ जाएगा।